Sunday, January 15, 2017

इश्क़ ए नादाँ

अधरों पे मेरे इबादत बस एक ही सजी हैं

खुदा तू मेरा,  मौसक़ि भी तू ही हैं

कलमा गुनगुना रहा हूँ बस तेरे ही नाम का

आशिक़ी जूनून बन गयी जैसे चाह की तेरी

झुक गया  सजदे में तेरे आके मैं

कुछ और नहीं बंदगी हैं ये मेरे प्यार की  

पढ़ रही जो आयतें बस तेरे ही नाम की

एक तू ही मेरा मुकम्मल जहाँ मेरे वास्ते

तुझसे शुरू तुझ पे ही ख़त्म

रहनुमाई मेरे इश्क़ ए नादाँ की

मेरे इश्क़ ए नादाँ की




6 comments:

  1. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 19.1.17 को चर्चा मंच पर चर्चा - 2582 में दिया जाएगा
    धन्यवाद

    ReplyDelete
    Replies
    1. दिलबाग भाई

      बहुत बहुत धन्यवाद्
      सादर
      मनोज

      Delete
  2. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. मालती जी

      शुक्रिया

      सादर
      मनोज

      Delete
  3. बहुत सुंदर रचना

    ReplyDelete
    Replies
    1. मालती जी

      शुक्रिया

      सादर
      मनोज

      Delete