Friday, July 17, 2015

अधरों पे

अधरों पे नाम तेरा

आते आते रुक जाता है

जलती है जब शमा

परवाना मचल जाता है

अधरों पे नाम तेरा

आते आते रुक जाता है

झुक जाती है नजरें

नूर तेरा जब नजर आता है

अधरों पे नाम तेरा

आते आते रुक जाता है

थम जाती है साँसे

हिजाब तेरा जब सरक जाता है

अधरों पे नाम तेरा

आते आते रुक जाता है

No comments:

Post a Comment