Sunday, November 18, 2012

सपनो का सौदा

आ मैं सपनो का सौदा कर लू

सपने तुम्हे दे दू

नींद मैं ले लू

गुजरती नहीं है राते

सुनी रहती है आँखे

बाहों में तेरी सो जाऊ आके

ले लो तुम मेरे सपने उधार

बड़ी लम्बी होती है वो रात

झपकते नहीं नयना जिस रात

हो सपनो के रथ पे सवार

चुरा ले जाती निंदिया की आँख

करलो मेरा सौदा स्वीकार

लोटा दो मेरी निंदिया

ले लो मेरे सपने उधार

 

No comments:

Post a Comment