Wednesday, August 15, 2012

फूल

फूल बन वेणी में गूँथ

बालों में सज जाऊ मैं

माला में पिरों

गर्दन में सज जाऊ मैं

श्री चरणों में चढ़

कदमो से उनके लिपट जाऊ मैं

पर दिल कह रहा है

शहीदों की वेदी पे सज

जीवन अपना सफल कर जाऊ मैं


No comments:

Post a Comment