Saturday, June 16, 2012

प्यार की डोर

बंधी है जिससे दिलों की डोर

प्यार की है वो डोर

दूर होते हुए भी

महकती है जिससे साँसों की डोर

प्यार की है वो डोर

निहारती है आँखे जिसे ओर

प्यार की है वो डोर

No comments:

Post a Comment