Saturday, June 16, 2012

नींद

नींद जब किश्तों में बंट जाती है

रातें करवटें बदलते गुजर जाती है

सपने देखना दूर की बात

चैन भरी नींद को

आँखे तरस जाती है

नींद जब किश्तों में बंट जाती है

आलम उस पल ऐसा होता है

नींद के सिवा अपना ना कोई दूजा होता है

चाँद तारों कर साथ भी अधूरा लगता है

सकून भरी नींद के लिए

तन जब करवटें बदलता है

तन जब करवटें बदलता है

नींद जब किश्तों में बंट जाती है

रातें करवटें बदलते गुजर जाती है

नींद जब किश्तों में बंट जाती है

No comments:

Post a Comment