Thursday, January 5, 2012

पिता की याद

स्वीकार कर श्रद्धा के फूल

करदो आस हमारी पूर्ण

आशीर्वाद आपका संग रहे सदा

जैसे यादों के चिराग रोशन रहे सदा

No comments:

Post a Comment