Wednesday, December 7, 2011

उम्र

जोर चलता अगर उम्र पर

थाम लेता बचपन यहीं पर

सपनों की उस सुन्दर दुनिया में

ख्वाइश पूरी कर लेता जीने की

रंग देता जीवन के उन हसीन पलों को

बचपन की उम्र अगर फिर पास होती

काश थाम लेता बचपन यहीं पर

No comments:

Post a Comment