Monday, November 7, 2011

सपनों के घरोंदे

गुजर गए वो लहमे वो पल

जिनमें हम मुस्कराए करते थे

अब तो बस यादों के सहारे

जिन्दगी गुजारा करते है

यादों के इन हसीन पलों को

जिन्दा रखने के लिए

सपनों के घरोंदे बनाया करते है

No comments:

Post a Comment