Wednesday, November 9, 2011

प्यार के नगमे

दिल से निकले सुरों को

मिल जाती है जब जुबान

धड़कने तब बन जाती है साज

संगीत की इस मधुर राग से

फिर बरसने लगती है

प्यार भरे नगमों की बरसात

No comments:

Post a Comment