Friday, June 10, 2011

क्रांति

लहर उठी परिवर्तन की

बदल गयी कायनात सारी

हो गया साम्राज्य छिन्न भिन्न

पड़ गयी अवाम की आवाज़ भरी

जन क्रांति ने ऐसी राह दिखला दी

सोई मानव चेतना जगा दी

बदले परिवेश

आन्दोलन की भेंट चढ़ गयी तानाशाही

सफल हो गया सत्याग्रह

परिवर्तन ने ऐसी लहर चला दी

No comments:

Post a Comment