Tuesday, May 10, 2011

तपिश

तपिश जो मेरी रूहों से निकली

मन को तेरे

प्रेम अगन में

झुलसा गयी

जल गया तन भी

जब तुने साँसों से साँसे मिला दी

1 comment: