Thursday, December 23, 2010

प्रीत रागिनी

सुन के तेरी प्रीत रागिनी

तेरे प्यार भरे ख्यालों में

खो गयी दुनिया सारी

छू गयी तेरी हँसी दिल को

बोल उठी खामोश जुबाँ भी

साया बन थामा जो हाथ

होने लगा प्यार का कमाल

मुर्दा दिल भी जाग उठा

कहने लगा

तू ही मेरे दिल की साज

तू ही मेरा प्यार

No comments:

Post a Comment