Friday, December 10, 2010

कैसे

कैसे ए दर्द भरी दास्ताँ पेश करू

जख्म तुने जो दिए

कैसे उन्हें पेश करू

दर्द ए दिल कैसे पेश करू

तुझे भुलाने को

क्या में ओर करू

कैसे उस बीते लहमे को पेश करू

No comments:

Post a Comment