Friday, December 10, 2010

मासूम कलि

ओस की शबनमी बूंदों में लिपटी

मासूम सी कलि

खिलखिलाए महकाए चमन

जब छुए सूरज की रौशनी

No comments:

Post a Comment