Friday, June 25, 2010

तारीफ़

तारीफ़ में जिनकी कसीदे पढ़

ता उम्र गुजार दी

पर वो मेहरबान ना हुए

जिनके इन्तजार में जिन्दगी गुजार दी

No comments:

Post a Comment