Monday, February 22, 2010

खुशहाली

गुजरे कल को भूल जाओ

आने वाले कल की चिंता करो

भूत से निकल भविष्य को सुमरन करो

रहना है खुशहाल तो मेरे दोस्त

वर्तमान में जीना सीखो

No comments:

Post a Comment