Friday, November 6, 2009

साँसों की डोर

रुक रही साँसों को थाम लो

हो ना जाए देर इससे पहले

मेरे नाम की मांग सजालो

बिन तेरे कुछ भी नहीं

कैसे तेरे बिन जिया जाऊ

इन साँसों की डोर बंधी है

तेरी साँसों की डोर से

हो ना जाए देर कही

आके मेरा हाथ थाम लो

No comments:

Post a Comment