Saturday, October 24, 2009

गीत पुराना

गीत पुराना है साज़ नया है

फिर भी तुमको सुनना है

हर जनम तेरे साथ निभाना है

प्यार के मीठे बोलो से

जिन्दगी का सुर सजाना है

इस कशीश को जीने की

सरगम बनाना है

गीत पुराना है साज़ नया है

फिर भी तुमको सुनना है

No comments:

Post a Comment