Saturday, October 24, 2009

सच्ची कहानी

ये मेरे यार सुन के दास्ता मेरी

हो ना जाए आँखे नम तेरी

दर्द भरी ये कहानी है

प्रेम की आगोश में लिपटी ये जिंदगानी है

रूठे यार को मनाने की सच्ची ये कहानी है

दास्ता ये अजब प्रेम की गजब कहानी है

मिलने से पहले बिछड़ जाने की कहानी है

तन से रूह जुदा हो जाने की कहानी है

मेरे यार सच्ची ये कहानी है

No comments:

Post a Comment